विज्ञान समिती में सेल्फ हेल्प टेक्निक व स्ट्रेस मैनेजमेंट कार्यक्रम।

प्रवासी एकता न्यूज़:- रोहित चौधरी 9660317316

हाउस वाइफ का रिगरेशन लेकर नही होममेकर का प्राइड लेकर जीए :- मुनि मेधांश

उदयपुर : 20 जनवरी, शहर के विज्ञान समिती भवन में वरिष्ठ महिला प्रकोष्ठ व नवाचार महिला प्रकोष्ठ के संयुक्त तत्वावधान में समायोजित सेल्फ हेल्प टेक्नीक व स्ट्रेस मैनेजमेंट कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए शासन श्री मुनि सुरेश कुमार के सहवर्ती मुनि संबोध कुमार ‘मेधाश’ ने कहा- जीवन वहीं जिसकी कोई उपलब्धि हो, उपलब्धियों के बिना जीवन केवल खर्च होता है। महिलाए हाउस वाइफ का रिगरेशन लेकर नही होम मेकर का प्राइड लेकर जीए,

एक यही जॉब है जो सातों दिन बिना सैलरी की अपेक्षा से  किया जाता है। वे कार्यक्रम में स्ट्रेस फ्री लाइफ के योग-ध्यान प्रयोग के विषय पर बोल रहे थे। उन्होने पच्चास प्लस की लाइफ की सफलता के पाँच सूत्र बताते हुए, कहा- अपेक्षा कम तो उपेक्षा कम होगी, जो प्राप्त है वही पर्याप्त है, एक सेहत सौ नैमत, अपने खिलाफ ना जाए, स्वयं से प्यार करे, इन पांच सूत्रों में जीवन के आसपास सातों दिन खुशीया ढूंढ लेंगे।

साथ ही मुनिप्रवर का मानना था आपके काम की वजह से आपको पहचाना जाए तो यह जीवन की सर्वोच्च उपलब्धि है। सांसों को धुए की तरह नहीं चिंगारी की तरह जीए, मस्ती को इतनी सस्ती ना बनाए कि वह कभी भी किसी भी बस्ती में खो जाए। हम ज्यादातर उन बातों से तनाव में रहते है जिनसे हमारा कोई5 रिश्ता नहीं होता,

जब हम स्वयं से प्यार करने लगेंगे तो यह जरूर होगा कि, हम किसी पार्टी, मॉल, मोबाइल, मुवी, मोपेड, में खुशी ढूंढने के बजाय स्वयं से खुश रहेंगे तनाव और बीमारीयों की इतनी ताकत नहीं है हमारी  इजाजत के बिना हममे घर बसा ले। स्वास को लंबा गहरा करते रहेंगे तो मन और शरीर सदा प्रसन्न रहेंगे।

चाहे कितनी भी पसंदीदा हो हम तीनो समय एक जैसा भोजन नहीं ले सकते वैसे ही जीवन मे सभी दिन एक जैसे नहीं हो सकते, इ.सी.जी. मशीन में टेढ़ी-मेढ़ी लाइनों का मतलब जीवन होता है, और लाइन के सीधे होने का मतलब अंत ही होता है। स्वागत श्री डॉ. श्रीमती पुष्पा कोठारी व आभार विज्ञान समिती अध्यक्ष तलेसरा ने ज्ञापित किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.